Namo Namo Girivara (Hindi Lyrics) | Jain Stavan Lyrics | Saturnjay Stavan Lyrics | Jain Stuti Stavan

Namo Namo Girivara (Hindi Lyrics) नमो नमो गिरिवरा...

(राग :जय (2) शंकरा..)
जय जय आदीश्वरा, युगादिदेव ईश्वरा...
तेरे नाम से शुरु (युगादिदेव ईश्वरा)...
मेरी शाम और सुबह (युगादिदेव ईश्वरा)...
पर्वतों की टोच पर तुने निवास है कीया,
तुमको मीलने के लिये तडप रहा मेरा जीया,
हर एक कदम... तेरी तरफ, गुरुवर के संग हो मेरा... ..1

नमो नमो गिरिवरा, तारको में तु बड़ा,
चौद राजलोक का भूषण है तुं गिरिवरा,
अहो अहो गिरिवरा,तारको में तुंबड़ा, विश्ववंद्य तुं गिरिवरा...  ..2

पधारकर गिरि उपर,99 पूर्व बार बार,
(आदि प्रभुने) आपने प्रभु कीया, भव्य जीवों का उद्धार,
आये अधम, हुए परम, ये तो है तेरी महानता... (3)
धृतपूर्ण दीप में (नमो (2) गिरिवरा)...
ज्योति जलती जिस तरहा (गिरिवरा)...
मेरे मन में गिरिवरा (गिरिवरा)...
तुंबसा है उस तरहा (गिरिवरा)...     .3

धन्य घेटी पाव में, सिद्धवड की छाँव में,
नवटुंकों की राह में, रायण (रुख) की पनाह में,
हर शिला है सिद्धशिला, सिद्धत्व बाग है खिला... (3)
नमो (2) गिरिवरा...सिद्धक्षेत्र तुं खरा,
चौद राजलोक का भूषण है तुं गिरिवरा,
अहो (2) गिरिवरा...सिद्धक्षेत्र तुंखरा... विश्ववंद्य तुं गिरिवरा...  ..4



Post a Comment

0 Comments